ХУДОЖНИК ОЛЬГА КОНОРОВА

International Information Agency "Russia Segodnya" ("SPUTNIK")

International Information Agency "Russia Segodnya" ("SPUTNIK")
This well-known and popular museum where Indian art is well represented is always crowded by a lot of visitors from different parts of the country and from abroad. These days, one of the expositions at the museum is "Beautiful Faces," an exhibition of the works of young Russian artist Olga Konorova.
In an interview with the correspondent of "Sputnik" Natalia Benyukh, the artist said, "India has always interested me since childhood, attracted me with its colors, music, literature, architectural monuments, art, crafts, fine arts. I got acquainted with the country through books, films, reproductions. And in 2009. I visited India for the first time. I remember how carefully I selected pencils, paint for the trip. I also took a sketchbook with me.
South India, Kerala, Karnataka, Kashmir, Laddakh…The trip  literally stunned Olga with impressions. And as a result — not a single sketch, no drawings! The sketchbook returned to Moscow unopened.

The following year, and all subsequent years, Olga visited India time and again. She travelled to its western and eastern states, and again returned to her favorite north. The artist stayed in small villages to get acquainted with the life and traditions of the Indians.
From her third trip, Olga brought home dozens of landscape paintings, portraits, and hundreds of photos.
Senior colleagues visiting the exhibition of Olga Konorova's work these days especially single out the portraits painted by Olga.
Her psychological portraits of Indians are amazingly realistic, remark many visitors. The photos are engulfed in a special flair and poetry.
Take a look at the works of Olga Konorova, my friends, and share your impressions with us.
The artist admitted to our reporter that in her mind she is once again in India. She plans to open an exhibition of her works there  in 2016.

http://in.sputniknews.com/south_asia/20151204/1016658142/india-photo-moscow.html

भारत के निवासियों- महिलाओं, पुरुषों, बच्चों- के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं।

रूस की राजधानी में स्थित इस प्रसिद्ध व लोकप्रिय संग्रहालय में भारत से संबंधित कई कला-कृतियां प्रदर्शनार्थ रखी हुई हैं। रूस के विभिन्न इलाकों और विदेशों से कई कला-प्रेमी इस संग्रहालय को देखने के लिए यहाँ आते हैं। आजकल इस संग्रहालय में रूस की एक युवा चित्रकार, ओल्गा कोनोरोवा के चित्रों की एक प्रदर्शनी "सुंदर चेहरे" लगी हुई है।

ओल्गा कोनोरोवा ने "स्पूतनिक" की संवाददाता नतालिया बेन्यूख़ को दिए अपने एक साक्षात्कार में कहा कि उन्हें बचपन से ही भारत के हर रंग, संगीत, साहित्य, स्थापत्य स्मारकों, शिल्प कला, ललित कला आदि ने अपनी ओर आकर्षित किया है। ओल्गा कोनोरोवा ने कहा-

"मैं पुस्तकों, फिल्मों, कलाकृतियां के ज़रिए भारत देश से परिचित हुई थी। सन् 2009 में मैंने पहली बार भारत की यात्रा की। मैं रंग-बिरंगी पेंसिलें और कई  रंग अपने साथ ले गई थी। मैं एक स्केचबुक भी ले गई थी।"

ओल्गा कोनोरोवा ने भारत के दक्षिणी राज्यों केरल और कर्नाटक के अलावा उत्तर में कश्मीर और लद्दाख की यात्रा की। इन राज्यों के जीवन की विविधता को देखकर वह बहुत दंग रह गईं। इसका परिणाम यह निकला कि उन्होंने कई स्केच और रेखाचित्र बनाए। उनकी स्केचबुक के प्रत्येक पन्ने पर ऐसे स्केच और रेखाचित्र देखे जा सकते हैं।

अगले वर्ष और बाद के सभी वर्षों में भी ओल्गा कोनोरोवा ने भारत की यात्राएं कीं। उन्होंने भारत के पश्चिमी और पूर्वी राज्यों की यात्राएं कीं। वह इन राज्यों के छोटे-छोटे गांवों में रुकीं और भारतीयों के जीवन और उनकी परंपराओं से परिचित हुईं।

जब वह अपनी तीसरी भारत यात्रा से वापस लौटीं तो वह अपने साथ दर्जनों चित्र, पोर्ट्रेट और सैकड़ों तस्वीरें लेकर आईं। ओल्गा कोनोरोवा के वरिष्ठ सहयोगियों ने राजकीय प्राच्य संग्रहालय में प्रदर्शित चित्रों में से पोर्ट्रेटों पर  विशेष रूप से अपना ध्यान केंद्रित किया है। कई आगन्तुकों ने इस बात का उल्लेख किया है कि ओल्गा द्वारा बनाए गए भारतीयों के मनोवैज्ञानिक चित्र आश्चर्यजनक हद तक यथार्थवादी हैं। और उनके द्वारा विशेष हुनर से खींचे गए फ़ोटो मानो कोई कविता हों।

दोस्तो, आप भी ये चित्र देखें और इनके बारे में अपनी राय हमसे साझी करें।
भारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैंभारतीय महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के सुंदर चेहरे आजकल मास्को स्थित राजकीय प्राच्य संग्रहालय के आगुन्तकों का ध्यान तुरन्त अपनी ओर आकर्षित कर लेते हैं

रूसी चित्रकार ने हमारी संवाददाता को बताया है कि भारत और इसके सुंदर निवासी उनके मन में बसे हुए हैं। ओल्गा कोनोरोवा ने अगले साल, यानी 2016 में भी भारत की यात्रा करने और वहाँ अपने चित्रों की एक प्रदर्शनी लगाने की योजना बनाई है।
आगे पढ़ें :

http://hindi.sputniknews.com/rus/20151206/1016670674/India-beautiful-faces.html#ixzz3uSiX6PkO